कहा कि बाबा साहब किसी एक जाति के नेता नही बल्कि मेहनतकश वर्ग की थे आवाज

समाचार दृष्टि ब्यूरो/सराहां

आज भी बाबा साहब के विचारों की प्रसंगीतकता इस देश मे है जिसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि भारत का संविधान दुनिया के बेहतरीन सविंधानो में से एक है। यह बात सराहां में आयोजित दलित शोषण मुक्ति मंच के जिला स्तरीय सेमिनार में मुख्य वक्ता वखेतिहर मजदूर यूनियन के राष्ट्रीय सचिव डॉ विक्रम सिंह ने कही।

विक्रम सिंह ने कहा कि बाबा साहब किसी एक जाति के नेता नही बल्कि मेहनतकश वर्ग की आवाज थे। परन्तु शासक वर्ग ने बाबा साहब की छवि को एक जाति विशेष के नेता पर करना चाहते है जोकि सरासर गलत है। बाबा साहब ने देश के मजदूरों, महिलाओं व अल्पसंख्यकों को अधिकार दिलाये।

इस जिला स्तरीय सेमिनार की अध्यक्षता 4 मण्डल अध्यक्षों जिसमे बाबुराम शास्त्री अरुण कश्यप, इंदरजीत सिंह, राजकुमार ने की। सेमिनार में दलित शोषण मुक्ति मंच के राज्य सह संयोजक आशीष कुमार विशेष रूप से उपस्तिथि रहे।

राज्य सह संयोजक आशिश कुमार ने बताया कि हम सबको बाबा साहब के विचारों को मानना चाहिए और उन्हें मात्र एक दिन के कार्यक्रम तक नही बल्कि उनके विचारों को असल मायने में जिंदगी में उतारने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि आज पूरे प्रदेश और हर खण्ड स्तर पर दलित शोषन मुक्ति मंच ये जयंती मना रहा है।

सेमिनार में भाषण, मेहंदी, प्रश्नोतरी, और कविता की प्रतियोगिता भी करवाई गई जिसमे , मेहंदी जूनियर वर्ग में आरुषि प्रथम त्रिशा द्वितीय और अंजली ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। सीनियर वर्ग में सुमन, प्रथम, सोनिका द्वितीय, भानु तृतीय, रही।

भाषण प्रतियोगिता में ज्योति प्रथम, काजल द्वितीय, भारती तृतीय रही। कविता गायन में एकाग्र चौथी कक्षा के बच्चे ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। प्रश्नोतरी में भारती प्रथम, युविका तोमर द्वितीय, रजत कश्यप तृतीय स्थान पर रहे। सेमिनार में विमल, सतपाल मान, अंकुश चौहान, मदन, किरण, वीना , राजेन्द्र राहुल, विनोद , सुरेश, अमित समेत दर्जनों लोगों ने भाग लिया।

https://samachardrishti.com/wp-content/uploads/2022/04/Azadi-ka-Amrit-Mahotsav_Strip_300dpi-scaled.jpg

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here