जिला के सभी पंचायतों में पानी की गुणवता जांचने के लिए 5-5 महिलाओं को दिया जाएगा प्रशिक्षण

समाचार दृष्टि ब्यूरो /नाहन

जिला सिरमौर में जल जीवन मिशन के अंतर्गत 92.08 प्रतिशत परिवार को स्वच्छ पीने के पानी का कनेक्शन उपलब्ध करवाया गया है। यह जानकारी उपायुक्त सिरमौर रामकुमार गौतम ने आज जल शक्ति विभाग द्वारा आयोजित जल जीवन मिशन की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए दी।

उपायुक्त ने बताया कि सिरमौर जिला के सभी खंडों में 121248 परिवारों में से अब तक 111641 परिवारों को पीने के पानी का कनेक्शन उपलब्ध करवाया गया है। जबकि शेष परिवारों को भी जल्द पानी का कनेक्शन उपलब्ध करवा दिया जाएगा। उपायुक्त नेे विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वह शत प्रतिशत परिवारों को पानी उपलब्ध करवाने के लिए और अधिक क्षमता से कार्य करें।

उपायुक्त सिरमौर ने बताया कि जिला सिरमौर के 818 गांव के पानी के स्त्रोत का जीर्णाेद्धार करवाने के लिए जल शक्ति विभाग द्वारा 324 करोड़ की राशि की स्वीकृति के लिए सरकार को प्रस्ताव भेजा है। इस राशि के स्वीकृत होने पर सिरमौर के 818 गांव के लोगों को भविष्य में पानी की समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा।

उपायुक्त सिरमौर ने बताया कि जल जीवन मिशन के अंतर्गत जिला सिरमौर के शत-प्रतिशत स्कूलों में पानी का कनेक्शन उपलब्ध करवाया गया है। जबकि जल्द ही शत प्रतिशत आंगनबाड़ी केंद्रों में भी पानी का कनेक्शन उपलब्ध करवा दिया जाएगा। उन्होंने विभाग के अधिकारियों को 15 दिनों के भीतर सभी आंगनवाड़ी केंद्रों में पानी के कनेक्शन उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए।

उपायुक्त सिरमौर ने विभाग को बरसात के दौरान पेयजल कीे अधिक से अधिक बार जांच करने के निर्देश दिए। ताकि लोगों को स्वच्छ पीने का जल उपलब्ध करवाया जाए।

इस अवसर पर उपायुक्त ने बताया कि जिला के सभी पंचायतों के प्रधानों को फील्ड टेस्ट किट मुहैया कराया गया है। जिससे प्रधान अपनी पंचायत में पीने के पानी की जांच स्वयं कर सकेंगे। उन्होंने निर्देश दिए कि बरसात के दौरान सप्ताह में 2 बार पानी की जांच आवश्यक करवाएं। उन्होंने सभी पंचायतों को निर्देश दिए हैं कि जल जीवन मिशन के अंतर्गत सभी पंचायतें अपने गांव में पेयजल गुणवत्ता की जांच करेगी और जांच रिपोर्ट को जल जीवन मिशन कीे साइट पर अपलोड भी करेंगे।

उपायुक्त ने बताया कि जिला सिरमौर के अंतर्गत नाहन में जल शक्ति केंद्र खोला गया है जिसके अंतर्गत पानी की गुणवत्ता की जांच, उसके संरक्षण, पानी को बचाने, शुद्ध करने के तरीकों, बावडियों के शुद्धिकरण और पानी से संबंधित सभी प्रकार की जानकारियां इस केंद्र में उपलब्ध करवाई जा रही है। उपायुक्त ने जिला वासियों से अपील की है कि वे पानी के बचाव, शुद्धीकरण व अन्य सभी जानकारियों के लिए इस केंद्र में अवश्य आएं।

उपायुक्त ने बताया कि जिला सिरमौर के चार स्थानो पावंटा साहिब, नोहराधार, शिलाई व नाहन में एनएबीएल पानी गुणवत्ता जांच लैब स्थापित की गई है। उन्होंने जिला वासियों से अपील की है कि सभी लोग अपने घर के पेयजल की जांच अवश्य करवाएं।

उपायुक्त ने बताया कि सभी पंचायतों में पानी की गुणवता को जांचने के लिए 5-5 महिलाओं को प्रशिक्षण दिया जाएगा। ताकि ग्राम स्तर पर महिलाएं पीने के पानी को जांचने योग्य हो जाए। इसके लिए महिलाओं को उपकरण के इस्तेमाल के लिए प्रशिक्षण दिया जाएगा। इस योजना के अर्न्तगत अब तक जिला की 4895 महिलाओं को प्रशिक्षण दिया गया है।

बैठक में जल शक्ति विभाग के अधीक्षण अभियंता विशाल जयसवाल सहित संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।

https://samachardrishti.com/wp-content/uploads/2022/04/Azadi-ka-Amrit-Mahotsav_Strip_300dpi-scaled.jpg

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here