सरकार मुहैया करवाएगी हर संभव सहायता

डॉ0 राजीव बिंदल ने कोरोना काल के दौरान सिरमौर जिला में अनाथ हुए बच्चों को पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना के तहत स्नेह पत्र, 5 लाख तक का स्वास्थ्य बीमा आयुष्मान कार्ड व 10 लाख की एफडी प्रदान की

समाचार दृष्टि ब्यूरो/नाहन

जिला सिरमौर में कोरोना काल के दौरान अनाथ हुए बच्चों को सरकार प्रधानमंत्री पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना के अंतर्गत हर संभव सहायता मुहैया करवाएगी। यह जानकारी आज यहां विधायक नाहन एवं पूर्व विधानसभा अध्यक्ष डॉ राजीव बिंदल ने दी। वे केंद्र सरकार के 8 साल पूर्ण होने पर महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा आयोजित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संदेश सुनने के बाद बोल रहे थे।

पुलिस मुख्यालय नाहन के सम्मेलन कक्ष में महिला एवं बाल विकास विभाग सिरमौर द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में दिल्ली से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संदेश को दिखाया गया जिसके बाद जिला सिरमौर में कोरोना काल के दौरान अनाथ हुए बच्चों को डॉ राजीव बिंदल ने पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना के तहत स्नेह पत्र, 5 लाख तक का स्वास्थ्य बीमा आयुष्मान कार्ड व 10 लाख की एफडी दी।

इस अवसर पर डॉ राजीव बिंदल ने कहा कि पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना कोरोना काल में अनाथ हुए बच्चों को सहारा देने के लिए सरकार का एक प्रयास है जिसके तहत इन बच्चों की शिक्षा, स्वास्थ्य और संपूर्ण विकास के लिए पीएम केयर्स योजना अभिभावक की तरह अपनी जिम्मेदारी निभा रही है। सरकार का प्रयास है कि इन बच्चों का सर्वांगीण विकास हो, जिसके लिए हर जिले के उपायुक्त को इनका संरक्षक बनाया गया है।

उन्होंने बताया कि इस योजना के अंतर्गत बच्चों को शिक्षा सुविधा के साथ-साथ फंड की सुविधाएं भी उपलब्ध करवाई जाएंगी। 10 वर्ष तक बच्चे को निकटतम केंद्रीय विद्यालय या एक निजी स्कूल में डे-स्कॉलर के रूप में प्रवेश दिया जाएगा। अगर बच्चे को किसी निजी स्कूल में भर्ती कराया जाता है तो शिक्षा के अधिकार के मानदंडों के अनुसार फीस पीएम केयर्स से दी जाएगी। स्कूल वर्दी, पाठ्यपुस्तकों और नोटबुक पर खर्च के लिए भी पीएम केयर्स से भुगतान किया जाएगा।

ऐसे बच्चे, जिनकी आयु 18 वर्ष है, उन्हें स्कॉलरशिप प्रदान की जाएगी व उनके 23 वर्ष के होने के बाद पीएम केयर्स से प्रति बच्चे को 10 लाख का फंड मुहैया करवाया जाएगा। इसके अतिरिक्त, अनाथ बच्चों को आगे की शिक्षा प्राप्त करने के लिए लोन की सुविधा भी उपलब्ध करवाई जाएगी। इसके साथ-साथ इन बच्चों को आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत 5 लाख रुपए तक का स्वास्थ्य बीमा भी उपलब्ध करवाया जाएगा जिसका प्रीमियम सरकार वहन करेगी।

इस अवसर पर उपायुक्त सिरमौर आरके गौतम ने बताया कि कोरोना काल के दौरान जिला में 2 बच्चे अनाथ हुए हैं, जिनकी पंजीकरण प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। इसके अतिरिक्त जिला में 97 ऐसे बच्चे हैं जिनके माता व पिता में से एक की मृत्यु कोरोना काल के दौरान हुई है। उन्होंने बताया कि जिन बच्चों के पिता की मृत्यु कोरोना काल में हुई है, उन बच्चों की माताओं को मदर टेरेसा असहाय मातृ संबल योजना के अंतर्गत सहायता उपलब्ध करवाई जाएगी।

इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक सिरमौर ओमापति जमवाल, जिला कार्यक्रम अधिकारी, महिला एवं बाल विकास विभाग सुनील शर्मा सहित अन्य अधिकारी भी उपस्थित रहे।

https://samachardrishti.com/wp-content/uploads/2022/04/Azadi-ka-Amrit-Mahotsav_Strip_300dpi-scaled.jpg

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here